Monday, December 13, 2010

गज़ल 3

मेरा दिल है जैसे धरती, सब कुछ इसके अंदर है
पर्वत-समतल, हरियल-बंजर, खाईं और समंदर है
निगल रहा है धीरे-धीरे हसीं-खुशी का हर लमहा
यह कोई बेचैन समय है या फिर कोई अजगर है
प्रातः के बारे में यह भी एक कल्पना है प्यारी
चंदा की चाँदनी प्रश्न थी यह सूरज का उत्तर है
वैसे तो दुनिया को अक्सर भला-बुरा कह लेता हूँ
लेकिन मेरा मन कहता है सब कुछ केवल सुंदर है
ऐसे ही कवि नहीं हुआ है उसने पीड़ा झेली है
कभी सजल है कभी अनल है इसीलिए मन उर्वर है

2 comments:

  1. .

    ऐसे ही कवि नहीं हुआ है उसने पीड़ा झेली है
    कभी सजल है कभी अनल है इसीलिए मन उर्वर है...

    एक कवि हो या फिर एक लेखक , यूँ ही नहीं बनता , उसका दर्द ही उसकी लेखनी से कभी सजल तो कभी अनल होकर बह निकलता है ।

    बहुत उम्दा प्रस्तुति !

    .

    ReplyDelete
  2. धार्मिक मुद्दों पर परिचर्चा करने से आप घबराते क्यों है, आप अच्छी तरह जानते हैं बिना बात किये विवाद ख़त्म नहीं होते. धार्मिक चर्चाओ का पहला मंच ,
    यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
    आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
    अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
    इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
    हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
    समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
    हल्ला बोल

    ReplyDelete